लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Agra ›   History was made in the year 2010 due to Ganga harvesting, Bhasawali village

गंगा कटान से वर्ष 2010 मे इतिहास बन गया था भसावली गांव

Agra Bureau आगरा ब्यूरो
Updated Fri, 12 Aug 2022 10:42 PM IST
कासगंज के बरौना गांव में सडक को काटकर गांव की ओर प्रवेश करता बाढ़ का पानी ।
कासगंज के बरौना गांव में सडक को काटकर गांव की ओर प्रवेश करता बाढ़ का पानी । - फोटो : KASGANJ
विज्ञापन
ख़बर सुनें
कासगंज। गंगा के रौद्र रुप जिले के तटवर्ती इलाकों के लिए पहले भी खतरनाक साबित होता रहा है। भसावली गांव में वर्ष 2010 में गंगा ने ऐसी त्रासदी आई की गांव गंगा के कटान में समा गया। उस समय इस तबाही की गूंज शासन तक पहुंची। तत्कालीन सिंचाई मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने यहां का दो बार दौरा किया। पल पल मिटे भसावली गांव के अस्तित्व का दर्द आज भी लोगों के जेहन में है। अब 12 वर्ष के बाद ठीक वैसे ही हालात पटियाली तहसील के बरौना गांव में बने हैं।

उस समय भसावली गांव के कटान के दौरान अगस्त माह था और गंगा का किनारा भी दक्षिणी था। जहां तेजी से गंगा की धारा ने कटान किया और कुछ ही दिनों में पूरे गांव का अस्तित्व मिटा दिया। प्रशासन को नई जमीन पर यह गांव बसाना पड़ा, लेकिन इस त्रासदी के बाद शासन, प्रशासन ने सबक लिया। गंगा के सामान्य स्थिति में पहुंचने के बाद यहां ड्रेन बनाकर गंगा की धारा को ठीक किया गया। उसके बाद इस इलाके को कटान से निजात मिली।

भसावली गांव के साथ उस समय नगला दल और डेलासराय गांव को भी बड़ा खतरा था, लेकिन कटान रोधी कार्य कारगर होने से राहत मिली थी। नगला दल के पूर्व ग्राम प्रधान डिप्टी सिंह ने उस त्रासदी को याद करते हुए बताया कि भसावली गांव 150 वर्ष पुराना गांव था। जिसका अस्तित्व गंगा की धारा के कटान से मिट गया। ग्रामीणों की खेती की जमीन, घर सब गंगा की भेंट चढ़ गया। गांव का सरकारी स्कूल, बिजली के पोल सब कुछ कटान में समा गया।
पर इन कार्यों से भसावली का अस्तित्व नहीं बच पाया।
ठीक ऐसा ही मंजर बरौना गांव का है। इस समय भी अगस्त का महीना है और गंगा का निशाना भी दक्षिणी किनारा है। सिंचाई विभाग के प्रयास भी अभी तक कारगर नहीं हो पा रहे। ऐसे में बरौना गांव के अस्तित्व को बचाने के लिए ग्रामीण जुटे हुए हैं, प्रशासन भी जुटा है। मां गंगा से बचाव के लिए गांव की महिलाएं प्रार्थना कर रही है। कैसे भी गांव की रक्षा हो।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00