विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Digital Edition

मेरठ का बढ़ा गौरव: डिग्री कॉलेजों के 27 शिक्षक बने प्राचार्य, पूरे प्रदेश में 290 को मिलेगी नई जिम्मेदारी

अकेले मेरठ के 27 से ज्यादा शिक्षक प्रदेश के डिग्री कॉलेजों में प्राचार्य बनेंगे। सीसीएसयू के मेरठ-सहारनपुर मंडल के सभी 50 कॉलेजों को स्थाई प्राचार्य मिल जाएंगे। गुरुवार को प्राचार्य बनने वाले शिक्षकों को ई-मेल आईडी के जरिए उनके कॉलेजों के नाम जारी कर दिए गए हैं। एक सप्ताह के भीतर इन सभी की तैनाती हो जाएगी। 

प्रदेश के एडेड कॉलेजों में 2012 से स्थाई प्राचार्य नहीं हैं। 2009 में हाईकोर्ट ने 170 से अधिक कॉलेजों में नियुक्त प्राचार्यों की सेवाओं को खत्म कर दिया था। 2012 में मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा लेकिन वहां से भी हाईकोर्ट के फैसले को बरकरार रखा गया। प्राचार्यों को हटना पड़ा। इसके बाद से कॉलेजों में कार्यवाहक प्राचार्य ही नियुक्त हो रहे हैं। 

अब उत्तर प्रदेश उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग की तरफ से प्राचार्य चयन प्रक्रिया के जरिए साक्षात्कार में उत्तीर्ण शिक्षकों को मेरिट के आधार पर कॉलेजों की वरीयता दी जा रही है। सीसीएसयू की बात करें तो मेरठ और सहारनपुर मंडल में 50 एडेड कॉलेज हैं। इनमें पांच अल्पसंख्यक कॉलेज हैं। एक कॉलेज में पहले से स्थाई प्राचार्य हैं। ऐसे में 44 कॉलेजों को नए प्राचार्य मिलेंगे। पूरे प्रदेश के डिग्री कॉलेजों में 290 प्राचार्यों के पदों पर तैनाती होंगी। 

मेरठ कॉलेज ने दिए सबसे ज्यादा प्राचार्य 
वेस्ट यूपी के एतिहासिक मेरठ कॉलेज ने सबसे ज्यादा 14 से अधिक प्राचार्य दिए हैं। कॉलेज की चीफ प्रॉक्टर डॉ. अलका चौधरी कनोहर लाल कॉलेज की प्राचार्य बनेंगी। डॉ. अजय चौधरी डीएन कॉलेज, डॉ. मनोज अग्रवाल एनएएस कॉलेज, डॉ. सतीश कुमार को एसएसवी कॉलेज, डॉ. ललित कुमार को डीएवी कॉलेज मुजफ्फरनगर, डॉ. अर्चना को धामपुर, इनके अलावा डॉ. आरके उपाध्याय, डॉ. वीके गौतम, डॉ. भगत सिंह, डॉ. संजय कुमार, डॉ. भूपेंद्र सिंह, डॉ. अंजू चौधरी और डॉ. एसकेएस यादव और छॉ. नीरज कुमार भी प्राचार्य बने हैं। 

यह भी पढ़ें: 
बड़ी कार्रवाई: कबाड़ी हाजी गल्ला की पांच करोड़ की संपत्ति जब्त, मुनादी के बाद अफसरों ने लगाई मकान-गोदाम पर सील
... और पढ़ें

खेल विश्वविद्यालय का नक्शा तैयार: बनेंगी तीन अंतरराष्ट्रीय शूटिंग रेंज, 700 करोड़ आएगी लागत

मेरठ के सलावा गांव में प्रस्तावित प्रदेश के पहले खेल विश्वविद्यालय का नक्शा भारत सरकार के परिवेश पोर्टल पर अपलोड हो गया है। करीब 700 करोड़ से 91 एकड़ एरिया में बनने वाले इस विश्वविद्यालय में ओलंपिक स्तरीय स्वीमिंग पूल और तीन शूटिग रेंज बनेंगी। नए वर्ष में विवि का निर्माण शुरू हो जाएगा। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मेरठ में छह महीने पूर्व प्रदेश के खेल विश्वविद्यालय की घोषणा की थी। खेल दिवस पर इसका नामकरण मेजर ध्यानचंद के नाम पर किया गया। सिंचाई और वन विभाग ने 91 एकड़ जमीन खेल विभाग के नाम कर दी है। परिवेश पोर्टल पर अपलोड साइट प्लान के मुताबिक यहां निशानेबाजों के लिए दस मीटर, 25 मीटर और 50 मीटर वाली अंतरराष्ट्रीय स्तर की तीन शूटिंग रेंज बनेंगी। विश्वविद्यालय में खेलों पर शोध भी होगा। कैंपस में बैंक और पोस्ट ऑफिस भी होगा। स्पोर्ट्स टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए अलग से प्रस्ताव भी शासन को भेजा गया है। 

फैक्ट फाइल:
700 करोड़ आएगी लागत
91 एकड़ जमीन फाइनल
100 व 400 मीटर के लिए एथलेटिक ट्रैक 

यह भी पढ़ें: 
पति-पत्नी की मौत: घर से एक साथ उठीं अर्थी तो हर किसी की आंखें हुईं नम, बेटे ने एक ही चिता पर दी मुखाग्नि, तस्वीरें
... और पढ़ें

यूपी बढ़ता क्राइम: पहले किशोरी का अपहरण, फिर किया दुष्कर्म, पीड़िता की हालत गंभीर, हायर सेंटर के लिए रेफर

उत्तर प्रदेश के शामली जनपद में दुष्कर्म का एक मामला सामने आया है। झिंझाना कस्बे में शादीशुदा व्यक्ति ने एक किशोरी का अपहरण कर उसके साथ दुष्कर्म किया। विरोध करने पर उसके साथ मारपीट भी की। 
इसके बाद आरोपी फरार हो गया। किशोरी को गंभीर हालत में सीएचसी में भर्ती कराया गया। जहां से उसे हायर सेंटर रेफर कर दिया गया। पुलिस आरोपी की तलाश में जुटी है। 

किशोरी के पिता के अनुसार पड़ोस में रहने वाला शादीशुदा व्यक्ति उसकी पुत्री का मुंह दबाकर अपने घर में ले गया और उसके साथ दुष्कर्म किया। किशोरी बदहवास हालत में घर पहुंची। जिसके बाद परिजनों ने उसे सीएचसी में भर्ती कराया। जहां उसकी गंभीर हालत देखते हुए चिकित्सकों ने उसे हायर सेंटर रेफर कर दिया। 

यह भी पढ़ें: 
पति-पत्नी की मौत: घर से एक साथ उठीं अर्थी तो हर किसी की आंखें हुईं नम, बेटे ने एक ही चिता पर दी मुखाग्नि, तस्वीरें

वहीं एसएसआई अनिल कुमार और एसआई प्रमोद कुमार भी हॉस्पिटल पहुंचे और पीड़िता के बयान लिए। पीड़ित किशोरी के पिता ने थाने में तहरीर दी है। इसके बाद पुलिस आरोपी के संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही है।

यह भी पढ़ें: बड़ी कार्रवाई: कबाड़ी हाजी गल्ला की पांच करोड़ की संपत्ति जब्त, मुनादी के बाद अफसरों ने लगाई मकान-गोदाम पर सील
... और पढ़ें

कबाड़ियों पर शिकंजा: सोतीगंज में विरोध के बीच आदिल के घर कुर्की की कार्यवाही, भारी पुलिस बल रहा तैनात

मेरठ में शनिवार को सोतीगंज में कबाड़ी आदिल के यहां कुर्की की कार्यवाही के लिए पहुंची पुलिस को विरोध का सामना करना पड़ा। भारी पुलिस बल के बीच पुलिस ने सामान जप्त कर लिया। सोतीगंज के शातिर कबाड़ी हाजी नईम उर्फ गल्ला के बाद पुलिस ने 32 कबाड़ियों की संपत्ति की लिस्ट बना ली है। इनकी संपत्ति करीब दस अरब की आंकी गई है। गैंगस्टर के तहत चोरी के वाहन काटने वाले इन कबाड़ियों की बेनामी संपत्ति पुलिस जब्त करने की तैयारी में लगी हुई है।

शनिवार को पुलिस ने फरार चल रहे कबाड़ी आदिल की सोतीगंज स्थिति मकान को जब्त कर कुर्की की कार्यवाही की। आदिल की बुआ ने पुलिस कार्यवाही पर सवाल खड़े कर दिए। उनका आरोप था कि जिसकी कुर्की होनी चाहिए थी, उनकी कुर्की नहीं की। हालांकि पुलिस ने किसी की एक न सुनी और पूरी कार्यवाही को अंजाम दिया।  पुलिस ने फरार चल रहे आदिल की तलाश में पुलिस ने दबिश भी दी लेकिन वह हाथ नहीं लगा।
... और पढ़ें
मेरठ के सोतीगंज में कुर्की की कार्यवाही मेरठ के सोतीगंज में कुर्की की कार्यवाही

शिकंजा: निशाने पर मेरठ के 32 कबाड़ियों की 10 अरब की दौलत, फरार आदिल की संपत्ति आज हुई कुर्क

मेरठ के सोतीगंज के शातिर कबाड़ी हाजी नईम उर्फ गल्ला के बाद पुलिस ने 32 कबाड़ियों की संपत्ति की लिस्ट बना ली है। इनकी संपत्ति करीब दस अरब की आंकी गई है। गैंगस्टर के तहत चोरी के वाहन काटने वाले इन कबाड़ियों की बेनामी संपत्ति पुलिस जब्त करने की तैयारी में लगी हुई है। कबाड़ियों के नए ठिकानों का भी पुलिस पता लगा रही है। दूसरी तरफ पुलिस ने हाजी गल्ला की पीर वाली कोठी पर स्थाई पिकेट तैनात कर दी है। सोतीगंज में पुलिस और सीसीटीवी कैमरे लगाएगी और इनका कंट्रोल रूम सदर थाने में होगा। 

गल्ला के अलावा सोतीगंज के 32 कबाड़ी पुलिस के रडार पर हैं। इनकी करीब दस अरब की संपत्ति बताई है। पुलिस का दावा है कि चोरी के वाहन काटने वाले सोतीगंज के कबाड़ियों ने अब ठिकाने बदल दिए हैं। 

इनका पता लगाने के लिए पुलिस लग गई है। एसएसपी ने बताया कि चोरी के वाहनों के पार्ट्स कबाडियों ने कहां छुपाए हैं, इसके लिए ड्रोन से भी निगरानी करेंगे। हाजी इकबाल ने भी चोरी के वाहनों से करोड़ों रुपये के संपत्ति अर्जित की है। 
यह भी पढ़ें: 
इंसाफ की मांग: भाजपा नेता ने मकान पर लिखा, 'गांव से पलायन को मजबूर', सीएम योगी को भेजा पत्र 
  ... और पढ़ें

डेंगू हुआ बेकाबू: मेरठ में पांच साल में मिले थे 1230 मरीज, महज 66 दिन में 1014 मरीज आए सामने

मेरठ में डेंगू भयावह होता जा रहा है। पांच साल में जिले में डेंगू के 1230 केस मिले थे जबकि इस बार 18 अगस्त से 22 अक्तूबर तक 66 दिन में आंकड़ा 1014 पहुंच गया है। शुक्रवार को डेंगू के भी 33 नए मरीज मिले। हर रोज औसतन 15 से ज्यादा मरीज मिल रहे हैं। 
 
पिछले साल कोरोना के कारण डेंगू की ज्यादा जांच नहीं हो पाई थी। सारा फोकस कोरोना पर ही रहा था। इस बार डेंगू  बुखार मरीजों को तपा रहा है। अस्पतालों में बेड फुल हैं। मरीजों को जंबो पैक प्लेटलेट्स की दरकार है, जिसके लिए तीमारदार परेशान हैं।

बुखार से 12 साल के बच्चे की मौत 
परीक्षितगढ़ के रहने वाले 12 साल के एक बच्चे की मौत दिल्ली के अस्पताल में हुई है। उसे डेंगू का संदिग्ध मरीज बताया जा रहा है। वह बुखार से पीड़ित था। मंडलीय सर्विलांस अधिकारी डॉ. अशोक तालियान का कहना है कि जांच कराई जा रही है, इसके बाद ही डेंगू के मरीजों की सूची में उसे शामिल किया जाएगा। अब तक डेंगू से तीन मौत हुई हैं, इनकी जांच एलाइजा से हुई थी, जबकि दो मौत वह हैं, जिन्हें रैपिड कार्ड से डेंगू की पुष्टि हुई थी।

यह भी पढ़ें:
 वर्दी पर दाग: इंस्पेक्टर पति की शिकायत से खुले हेड कांस्टेबल पत्नी के बड़े राज, होंडा सिटी से चलती थी मीनाक्षी, देखें तस्वीरें
... और पढ़ें

इंसाफ की मांग: भाजपा नेता ने मकान पर लिखा, 'गांव से पलायन को मजबूर', सीएम योगी को भेजा पत्र

सहारनपुर के गंगोह में पुलिस द्वारा कार्रवाई नहीं करने से नाराज भाजपा नेता परिजनों सहित गांव से पलायन करने को मजबूर है। पीड़ित का आरोप है कि दबंग उसे बार-बार परिवार सहित जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। इस बारे में शिकायत पत्र मुख्यमंत्री को भेजा है। 

कोतवाली गंगोह क्षेत्र के गांव बिलासपुर निवासी भाजपा के पूर्व मत्स्य प्रकोष्ठ जिला संयोजक और भारतीय कश्यप सेना के जिला संयोजक भोपाल सिंह कश्यप ने मुख्यमंत्री को भेजे शिकायत पत्र में बताया कि 14 अक्तूबर की सुबह करीब आठ बजे नकुड़ कोतवाली क्षेत्र के गांव भूरीबास निवासी सतीश के साथ वह गांव निवासी एक मिस्त्री की दुकान पर बैठा था। जैसे ही वह सतीश के साथ दुकान से बाहर निकला तो गांव बिलासपुर के ही तीन लोगों ने सतीश की पैरवी करने का आरोप लगाते हुए लाठी-डंडों से हमला कर दिया। इतना ही नहीं उसकी मां सोमवती के साथ भी गाली-गलौज और मारपीट की। 

वहीं मामले की तहरीर देने जब वह गंगोह कोतवाली पहुंचा तो आरोपी वहां भी पहुंच गए। आरोपियों ने वहां भी उसे कानूनी कार्रवाई करने पर परिवार सहित जान से मारने की धमकी दी। उसी वक्त उसने मामले की सूचना कोतवाली प्रभारी को दी, लेकिन कोतवाली प्रभारी ने उसकी बात को अनसुना कर दिया। इस बारे में उसने कैराना सांसद और गंगोह विधायक को भी अवगत कराया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। 

यह भी पढ़ें: 
पति-पत्नी की मौत: घर से एक साथ उठीं अर्थी तो हर किसी की आंखें हुईं नम, बेटे ने एक ही चिता पर दी मुखाग्नि, तस्वीरें

भोपाल सिंह कश्यप ने बताया कि तब से ही वह और उसका परिवार दहशत में रह रहा है। दबंगों के खिलाफ कोई भी कानूनी कार्रवाई नहीं होने से नाराज पीड़ित और उसके परिजन गांव से पलायन करने को मजबूर है। मकान की दीवार पर भी पलायन के लिए मजबूर लिख दिया है। इस मामले में सीओ मोहम्मद रिजवान का कहना है कि मामला उनके संज्ञान में है। कार्रवाई की जा रही है।

यह भी पढ़ें: बड़ी कार्रवाई: कबाड़ी हाजी गल्ला की पांच करोड़ की संपत्ति जब्त, मुनादी के बाद अफसरों ने लगाई मकान-गोदाम पर सील
... और पढ़ें

वर्दी पर दाग: इंस्पेक्टर पति की शिकायत से खुले हेड कांस्टेबल पत्नी के बड़े राज, होंडा सिटी से चलती थी मीनाक्षी, देखें तस्वीरें

भाजपा नेता ने मकान पर लिखा पलायन को मजबूर।
इंस्पेक्टर पति और हेड कांस्टेबल पत्नी के बीच चल रहे विवाद की शिकायतें थाने पहुंचीं तो कई बड़े राज खुलकर सामने आ गए। पिछले करीब सात साल से पति-पत्नी एक-दूसरे पर आरोप लगाते आ रहे हैं। पति ने इस बार शिकायत दर्ज कर आरोप लगाया है कि पत्नी के पास आय से अधिक संपत्ति हैं और वह होंडा सिटी गाड़ी से चलती थी। वहीं एंटी करप्शन की जांच के बाद पत्नी ने कहा कि मेरे पास सभी सबूत हैं। हेड कांस्टेबल का दावा है कि उसके पास अवैध कोई संपत्ति नहीं है। लेकिन जांच में कई बड़े राज खुलकर सामने आए हैं। 

फिर सुर्खियों में आया मामला
इंस्पेक्टर पति की शिकायत थाने पहुंची तो मामला एक बार फिर से सुर्खियों में आ गया। अब भ्रष्टाचार के आरोपों में महिला हेड कांस्टेबल के खिलाफ सिविल लाइन थाने में मुकदमा दर्ज हुआ है।
... और पढ़ें

मुजफ्फरनगर कवाल कांड: भाजपा विधायक सहित 12 आरोपी बरी, तीन हत्याओं के बाद जमकर हुआ था बवाल

मुजफ्फरनगर में कवाल कांड के बाद गांव के ही एक घर में खड़ी कार को फूंकने, गाली-गलौज करने और धमकी देने के मामले में भाजपा के खतौली विधायक विक्रम सैनी सहित 12 आरोपियों को साक्ष्यों के अभाव में अदालत ने बरी कर दिया है। विधायक और अन्य आरोपी गुरुवार को एमपी-एमएलए कोर्ट में पेश हुए।

बचाव पक्ष के अधिवक्ता भारतवीर अहलावत ने बताया कि 27 अगस्त, 2013 को कवाल गांव में ममेरे भाई सचिन और गौरव की हत्या कर दी गई थी। इसके बाद गांव के ही सरफराज के मकान में खड़ी कार में लोगों ने आग लगा दी थी। 

यह भी पढ़ें: 
बड़ी कार्रवाई: कबाड़ी हाजी गल्ला की पांच करोड़ की संपत्ति जब्त, मुनादी के बाद अफसरों ने लगाई मकान-गोदाम पर सील

इसके बाद 28 अगस्त, 2013 को गांव के चौकीदार इश्त्याक की ओर से विक्रम सैनी और राकेश सैनी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था। पुलिस ने जांच के बाद विक्रम सैनी, राकेश सैनी, टीकम, दीपक, रवि, सोनू, पवन, जगपाल, रामकिशन, अंकित, विपिन और ईश्वर के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की।

यह भी पढ़ें: पति-पत्नी की मौत: घर से एक साथ उठीं अर्थी तो हर किसी की आंखें हुईं नम, बेटे ने एक ही चिता पर दी मुखाग्नि, तस्वीरें

2017 में विक्रम सैनी के खतौली से विधायक बन जाने के बाद मुकदमे की सुनवाई एमपी-एमएलए स्पेशल कोर्ट में हुई। शुक्रवार को विधायक समेत सभी आरोपी अदालत में पेश हुए। न्यायाधीश गोपाल उपाध्याय ने सुनवाई करते हुए साक्ष्यों के अभाव में विधायक समेत अन्य सभी आरोपियों को बरी कर दिया गया है। बचाव पक्ष की ओर से अधिवक्ता भारतवीर अहलावत और जीएस सैनी ने पैरवी की।
... और पढ़ें

बारिश और बाढ़ ने गांवों में मचाई तबाही: फसलें हुईं बर्बाद, चिंता में डूबे किसान, तस्वीरों में देखें मौके का हाल

उत्तराखंड में बेमौसम बारिश से गंगा में आए उफान ने किसानों की मुश्किलें बढ़ा दी है। खादर क्षेत्र के दस गांवों के सैकड़ों किसानों की सब्जी की फसल बर्बाद हो गई है। गन्ने के खेतों में पानी भरा है। जलस्तर अभी भी खतरे के निशान पर है, जिससे किसानों की मुश्किलें आने वाले दिनों में भी कम होने के आसार कम ही है। 

रामराज क्षेत्र के जीवनपुरी, रामपुर ठकरा, उजाली कलां, उजाली खुर्द, सिताबपुरी, नया गांव, खैर नगर, मजलिसपुर, हंसावाला समेत करीब 10 गांव के किसानों के लिए गंगा का पानी मुसीबत बन गया है। 

जीवनपुरी के किसान संजीव कुमार का कहना है कि गन्ने के खेत में पानी भरा है। सब्जी की फसल बर्बाद हो गई है। लाखों रुपये का नुकसान हुआ है।
किसान धर्मेंद्र कुमार का कहना है कि प्रशासन ने फसलों को बचाने के लिए कोई इंतजाम नहीं किए हैं। किसानों की समस्या को कोई समझने के लिए तैयार नहीं है।
किसान प्रदीप कुमार का कहना है कि सब्जी की फसल बर्बाद होने से लाखों रुपये का नुकसान हुआ है। अभी पानी उतरने की कोई संभावना नहीं है।
... और पढ़ें

शामली में बड़ी घटना: नहर में गिरने से दो मासूम बच्चों की मौत, दोनों के परिवारों में मचा कोहराम

शामली जनपद में गढ़ीपुख्ता क्षेत्र के गांव धनेना में दो मासूम बच्चों की नहर में गिरने से मौत हो गई। दोनों बच्चे गुरुवार शाम से लापता थे। परिजन कल से ही उनकी तलाश कर रहे थे। वहीं शुक्रवार को दोनों के शव नहर की झाल में फंसे मिले।

धनेना निवासी कंवरपाल का सात वर्षीय पुत्र हिमांशु व जगपाल का आठ वर्षीय पुत्र राम भरोसे गुरुवार की शाम गांव के अन्य बच्चों के साथ नहर के पास घूमने गए थे। देर शाम तक जब बच्चे घर नहीं लौटे तो परिजनों ने उनकी तलाश की। अन्य बच्चों से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि वह नहर की झाल के पास गए थे। जिस पर परिजनों ने देर रात झाल पर बच्चों की तलाश की। वहीं सुबह दोनों बच्चों के शव झाल में फंसे दिखे।

यह भी पढ़ें: 
पति-पत्नी की मौत: घर से एक साथ उठीं अर्थी तो हर किसी की आंखें हुईं नम, बेटे ने एक ही चिता पर दी मुखाग्नि, तस्वीरें

सूचना पर पहुंचे एसआई कमल किशोर, दीवान परविंदर सिंह व गुलफाम ने ग्रामीणों की मदद से बच्चों को नहर से बाहर निकलवाया। बच्चों को मृत देख परिजनों में कोहराम मच गया। सूचना पर गढ़ी पुख्ता पुलिस भी मौके पर पहुंची। उधर, परिजनों ने किसी भी कार्रवाई से इनकार करते हुए बिना पोस्टमार्टम शव अपने साथ ले गए।

यह भी पढ़ें: बड़ी कार्रवाई: कबाड़ी हाजी गल्ला की पांच करोड़ की संपत्ति जब्त, मुनादी के बाद अफसरों ने लगाई मकान-गोदाम पर सील
... और पढ़ें

मिशन शक्ति कार्यक्रम: काकुल वर्मा डीएम, आरती बनीं सीडीओ, सुनीं फरियादियों की समस्याएं

बिजनौर में मिशन शक्ति कार्यक्रम के तीसरे चरण में बालिकाओं को सांकेतिक अधिकारी बनाया गया। इसके तहत काकुल वर्मा को डीएम और आरती को सीडीओ बनाया गया। अन्य कई बालिकाओं को भी कई विभागों में सांकेतिक अधिकारी बनाया गया। इस दौरान डीएम, सीडीओ समेत संबंधित विभागों के अधिकारियों ने ट्रॉफी देकर छात्राओं को सम्मानित किया। 

मिशन शक्ति कार्यक्रम के तीसरे चरण में शुक्रवार को कुमारी काकुल वर्मा को सांकेतिक रूप से जिलाधिकारी बनाया गया। डीएम की कुर्सी पर बैठने के बाद काकुल वर्मा ने कहा कि उन्हें बहुत अच्छा एहसास हो रहा है। वह भविष्य में जज बनना चाहती हैं। काकुल वर्मा जीजीआईसी में कक्षा नौ की छात्रा है। उसने आठवीं क्लास में 86 प्रतिशत अंक प्राप्त किए थे। आज डीएम की कुर्सी पर बैठने के बाद उसका हौसला बढ़ा है और वह पूरे मन से पढ़ाई कर अपने सपने को साकार करेगी। 

यह भी पढ़ें: 
पति-पत्नी की मौत: घर से एक साथ उठीं अर्थी तो हर किसी की आंखें हुईं नम, बेटे ने एक ही चिता पर दी मुखाग्नि, तस्वीरें

इसके अलावा कुमारी आरती सिंह को मुख्य विकास अधिकारी, कुमारी गरिमा चौधरी को जिला पंचायत राज अधिकारी, कुमारी सानिया अब्दुल्ला को समाज कल्याण अधिकारी और कुमारी मारिया को जिला प्रोबेशन अधिकारी बनाया गया। सभी बालिकाओं ने अपने-अपने सांकेतिक पद पर कार्य करते हुए एक दिन विभागीय कार्यों का संपादन किया और जन समस्याओं की सुनवाई करते हुए उनके निस्तारण के आदेश भी दिए। 

यह भी पढ़ें: बड़ी कार्रवाई: कबाड़ी हाजी गल्ला की पांच करोड़ की संपत्ति जब्त, मुनादी के बाद अफसरों ने लगाई मकान-गोदाम पर सील

इस अवसर पर जिलाधिकारी उमेश मिश्रा, मुख्य विकास अधिकारी केपी सिंह, उप जिलाधिकारी सदर विक्रमादित्य सिंह मालिक, अतिरिक्त मजिस्ट्रेट कुमारी संगीता, जिला प्रोबेशन अधिकारी संजय कुमार यादव तथा अन्य अधिकारी मौजूद रहे।
... और पढ़ें

विवादों में घिरे पति-पत्नी: इंस्पेक्टर की हेड कांस्टेबल पत्नी पर मुकदमा, एंटी करप्शन की जांच में खुले कई बड़े राज

मेरठ में भ्रष्टाचार के आरोपों में महिला हेड कांस्टेबल के खिलाफ सिविल लाइन थाने में मुकदमा दर्ज हो गया। आरोप है कि महिला कांस्टेबल के पास आय से अधिक संपत्ति है। इनके पति इंस्पेक्टर अमित कुमार की जौनपुर में पोस्टिंग बताई गई है।

मूलरूप से शामली के रहने वाले इंस्पेक्टर अमित कुमार के माता-पिता हाल में पल्लवपुरम में रहते हैं। अमित की पत्नी मीनाक्षी कोऑपरेटिव सहायता प्रकोष्ठ में हेड कांस्टेबल हैं। दंपती के बीच कई साल से विवाद चल रहा है। दोनों एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाकर पुलिस में शिकायत करते हैं। मीनाक्षी अपने बच्चों के साथ सिविल लाइन क्षेत्र में मानसरोवर कॉलोनी में रहती हैं।

पत्नी की शिकायत पर इंस्पेक्टर अमित कुमार का डिमोशन हुआ था। मीनाक्षी की भी शिकायत हो गई थी, जिसकी जांच एंटी करप्शन में चल रही थी। गुरुवार रात एंटी करप्शन के इंस्पेक्टर सूरज सिंह की तहरीर पर पुलिस ने मीनाक्षी चौधरी के खिलाफ भ्रष्टाचार का मुकदमा दर्ज कर लिया। आरोप है कि भ्रष्टाचार करके मीनाक्षी ने मानसरोवर कॉलोनी में फ्लैट लिया हुआ है और कई संपत्ति हैं।

होंडा सिटी से चलती थी महिला कांस्टेबल
पुलिस का कहना है कि हेड कांस्टेबल मीनाक्षी दो बच्चों की परवरिश कर रही है। उसके पास होंडा सिटी गाड़ी भी है। इसके चलते वह आय से अधिक संपत्ति के दायरे में आई। एंटी करप्शन ने पहले जांच की और फिर हेड कांस्टेबल के खिलाफ केस दर्ज कराया।

यह भी पढ़ें: 
पति-पत्नी की मौत: घर से एक साथ उठीं अर्थी तो हर किसी की आंखें हुईं नम, बेटे ने एक ही चिता पर दी मुखाग्नि, तस्वीरें
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00