विज्ञापन
विज्ञापन
गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें
Myjyotish

गंभीर से गंभीर परेशानी होगी दूर,ललिता देवी शक्तिपीठ-नैमिषारण्य पर कराएं ललिता सहस्रनाम पाठ, मात्र रु:51/- में,अभी बुक करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

आगरा: चंबल नदी पर पांटून पुल का निर्माण कार्य शुरू न होने से 150 गांवों के लोग परेशान

आगरा जिले के पिनाहट क्षेत्र में चंबल नदी घाट पर पांटून पुल का निर्माण कार्य शुरू नहीं किया गया है, जिसके कारण करीब 150 गांवों के ग्रामीणों को आवागमन के लिए परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने जल्द पुल निर्माण की मांग की है।

चंबल नदी घाट पर दो राज्य उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश को जोड़ने के लिए हर वर्ष लोक निर्माण विभाग आगरा द्वारा पांटून पुल का निर्माण 15 अक्तूबर तक करा दिया जाता है। इस पुल से दोनों प्रदेशों के करीब 150 गांवों के लोग आवागमन करते हैं। 

बरसात के दिनों में नदी में बाढ़ के चलते इस पुल को नदी किनारे देखरेख में रखा जाता है। बाकी दिनों में स्ट्रीमर संचालन द्वारा ग्रामीणों को नदी पार कराया जाता है। समय अवधि निकलने के एक सप्ताह बाद भी पांटून पुल का निर्माण नहीं कराया जा सका है। 
... और पढ़ें

इस गांव पर सती का 'श्राप': पति की लंबी उम्र के लिए करवाचौथ पर व्रत नहीं रखतीं हैं सुहागिनें

देश-विदेश में हिंदू महिलाएं अपने पतियों की दीर्घायु के लिए 24 अक्तूबर को करवा चौथ का व्रत रखेंगी। इस व्रत को लेकर नवविवाहिताओं में खासा उत्साह है। बाजार में खरीदारी के लिए रौनक बढ़ गई है। गांव-गांव फेरी लगाने वाले श्रृंगार का सामान बेच रहे हैं। दूसरी ओर मथुरा की मांट तहसील के कस्बा सुरीर के बघा मोहल्ला में कोई रौनक नहीं है। यहां महिलाएं सती के श्राप के डर से करवा चौथ का व्रत नहीं रखती हैं। 

राम नगला के ब्राह्मण पानी तक नहीं पीते सुरीर का

सुरीर के मोहल्ला बघा में सती की पूजा अब देवी की तरह होती है। यहां विवाह व त्योहारों पर सती की पूजा की जाती है। गांव राम नगला ( नौहझील) में ब्राह्मण समाज के लोग आज भी सुरीर का पानी पीने से परहेज करते हैं। इस परंपरा को पीढ़ी दर पीढ़ी लोग निभाते आ रहे हैं। 
... और पढ़ें

एटा: सूदखोरों ने घर में घुसकर गर्भवती सहित चार को पीटा, बुजुर्ग महिला की अंगुली काटी

एटा के थाना मलावन क्षेत्र के एक गांव में सूदखोरों ने घर में घुसकर गर्भवती महिला और उसके परिवार के लोगों को पीटकर घायल कर दिया। हमलावरों ने महिला की बुजुर्ग सास की अंगुली काट दी। सूचना पर पुलिस ने घायलों का जिला अस्पताल भेजकर चिकित्सकीय परीक्षण कराया है। 

मलावन क्षेत्र के गांव बिरसिंगपुर निवासी गीतम सिंह, उसकी गर्भवती पत्नी आरती देवी, बुजुर्ग मां सुंदरी देवी और भाभी कुसमा देवी को गुरुवार देर शाम घर में घुसकर पीटा गया। कुसमा देवी के पति राजपाल सिंह का आरोप है कि गांव के ही पूरन सिंह से भाई गीतम सिंह ने छह हजार रुपये कर्ज लिया था। 

आगरा में हत्या से सनसनी: गला रेतकर व्यक्ति को मौत के घाट उतारा, घर के पास मिला रक्त रंजित शव

दरांती से काटी बुजुर्ग महिला की अंगुली
गीतम कर्ज की रकम को चुकता नहीं कर पा रहा था तो पूरन ने अपने भतीजे विजय सिंह व अन्य परिजनों के साथ मिलकर हमला कर दिया। भाई की पत्नी आरती गर्भवती है। हमलावरों ने उसके साथ मारपीट की। कुसमा के सिर में चोट लगी है। आरोपियों ने दरांती से मां के हाथ की अंगुली काट दी। 
... और पढ़ें

पुलिस हिरासत में मौत: तीन दिन बाद भी न आरोपियों का पता, न जांच आगे बढ़ी, कब होगी गिरफ्तारी ?

आगरा के थाना जगदीशपुरा के मालखाने से 25 लाख की चोरी के मामले में हिरासत में लिए गए अरुण नरवार की मौत के मामले में हत्या का मुकदमा दर्ज हुए तीन दिन बीत गए, लेकिन विवेचना एक कदम भी आगे नहीं बढ़ सकी है। परिवार का आरोप है कि अब तक आरोपियों के नाम तक उजागर नहीं किए गए हैं। मुकदमा अज्ञात में लिखा गया है। इसमें आरोपियों के नाम कब आएंगे, यह कोई बताने वाला नहीं है।

अरुण नरवार की मौत के बाद आगरा से लेकर लखनऊ तक राजनीति गरमा गई है। पीड़ित परिवार से मिलने आने वाले नेताओं का जमावड़ा लगा रहता है। हर कोई परिवार को सांत्वना दे रहा है। अरुण की मां कमला देवी और सोनम सभी से एक ही सवाल कर रही हैं कि उनको न्याय कब मिलेगा, उन्हें पुलिस पर भरोसा नहीं हैं। अरुण की जान ले ली गई। उसका कोई कसूर नहीं था। चोरी पुलिस वालों ने कराई थी। वो नाम बताने वाला था।
... और पढ़ें
पुलिस हिरासत में मौत का मामला पुलिस हिरासत में मौत का मामला

आगरा केंद्रीय कारागार पर सख्त पहरा: जम्मू-कश्मीर से स्थानांतरित होंगे 26 बंदी, पुलिस के साथ पीएसी तैनात

जम्मू-कश्मीर की विभिन्न जेलों में बंद कुख्यात पत्थरबाजों, जमीनी काम करने वाले लोगों (ओजीडब्ल्यू) और आतंकियों के मददगार 26 बंदियों को आगरा की केंद्रीय कारागार में स्थानांतरित किया जाएगा। इससे पूर्व 17 अक्टूबर को 15 कश्मीरी बंदियों को आगरा केंद्रीय कारागार भेजा गया था। 

गृह मंत्रालय के आदेश पर 26 और बंदियों को केंद्रीय कारागार भेजा जा रहा है। इसकी जानकारी पर केंद्रीय कारागार में सुरक्षा पहरा कड़ा कर दिया है। जेल के रास्ते पर बैरियर लगाकर पुलिस और पीएसी तैनात कर दी गई है। जेल के अंदर भी विशेष बैरक में कश्मीरी बंदियों को रखने के इंतजाम किए जा रहे हैं।

संबंधित खबर- 
ध्वस्त होगा आतंकियों का नेटवर्क: 26 देश विरोधी तत्वों को भेजा जाएगा आगरा सेंट्रल जेल, पहली सूची जारी

आगरा केंद्रीय कारागार के वरिष्ठ अधीक्षक वीके सिंह ने बताया कि कारागार के बाहर एक प्लाटून पीएसी हर समय रहती है। अब कश्मीरी बंदियों के आने पर इनकी संख्या बढ़ाई जाएगी। कारागार की तरफ हलवाई की बगीची और सेक्टर आठ की ओर से आने वाले रास्तों पर बैरियर लगाए गए हैं। यहां भी फोर्स तैनात की जाएगी। 
... और पढ़ें

आगरा नगर निगम के विशेष सदन में हंगामा: सफाई कंपनी पर फूटा पार्षदों का गुस्सा, करार निरस्त करने की मांग

मेयर साहब, केरोसीन लेकर ऊपर डाल लूं या सदन में ही धरने पर बैठ जाऊं..., आगरा में सीवर और सफाई की समस्या से परेशान पार्षद जरीना बेगम ने शुक्रवार को जब विशेष सदन में मेयर नवीन जैन से मुखातिब होकर अपना दर्द बयां किया तो सन्नाटा छा गया। जरीना बेगम की तरह शहीद नगर के पार्षद, कार्यकारिणी के उपसभापति जगदीश पचौरी बोले कि वबाग कंपनी द्वारा सीवर समस्याओं का समाधान न करने से पार्षदों को मुंह छिपाकर निकलना पड़ रहा है। जनता परेशान हैं, निदान चाहती है, पर पार्षदों की भी कंपनी सुन नहीं रही। अगर कंपनी सुधार नहीं कर रही तो करार निरस्त कर दिया जाए।

बसपा की पार्षद जरीना बेगम के साथ बंटी माहौर, धर्मवीर सिंह, मनोज सोनी के साथ भाजपा पार्षदों ने अपनी पीड़ा बताई। बसपा के पार्षद बंटी माहौर के समर्थन में बसपा पार्षद सदन के बाहर धरने पर भी बैठे, जिस पर मेयर ने मोहन सिंह लोधी और प्रकाश केसवानी को समझाने के लिए भेजा। बसपा पार्षदों ने बहिष्कार खत्म कर सदन में सफाई को लेकर समस्याएं बताई।
... और पढ़ें

आगरा: विम्स अस्पताल में लिफ्ट फंसने से दहशत में आए लोग, कर्मचारियों ने दरवाजा खोलकर निकाला

आगरा के चर्च रोड स्थित विम्स अस्पताल में शुक्रवार रात साढ़े आठ बजे एक लिफ्ट ऊपर की मंजिल से नीचे आते हुए पहली मंजिल पर फंस गई। इससे लिफ्ट में मौजूद 3-4 लोगों को झटका लगा। चीखपुकार मचने पर अफरातफरी मच गई। अस्पताल के कर्मचारियों ने लिफ्ट का दरवाजा खोलकर लोगों को बाहर निकाला।

विम्स अस्पताल की ऊपर की मंजिल से एक लिफ्ट भूतल की तरफ आ रही थी। इसमें अस्पताल में भर्ती मरीजों के 3-4 तीमारदार थे। अचानक ऊपर की मंजिल से लिफ्ट तेजी से नीचे आने लगी और पहली मंजिल पर झटके के साथ अटक गई। शोर मचाने पर कर्मचारी आ गए। 

उन्होंने किसी तरह दरवाजा खोलकर सभी को बाहर निकाला। इनका प्राथमिक उपचार कराया गया। अस्पताल के सीईओ राजेश शर्मा ने बताया कि तकनीकी दिक्कत होने से लिफ्ट में झटका लगा था। एसपी सिटी विकास कुमार ने बताया कि कोई शिकायत नहीं की गई है। हादसा कैसे हुआ, इसकी जांच की जाएगी। 
... और पढ़ें

आगरा महोत्सव में लुभाएगी खादी: मिडनाइट बाजार का आगाज, 12 राज्यों की सजीं स्टॉल्स

बीच में फंसी लिफ्ट
आगरा महोत्सव में पहले ही दिन राजस्थान, ओडिशा, उत्तर प्रदेश, जम्मू से आए उत्पादों की बिक्री हुई। डॉ. अमी आधार निडर पवेलियन में इस बार साहित्यिक गतिविधियां भी होंगी। राजस्थान का अचार, नक्काशी वाले सहारनपुर के फर्नीचर, मुरादाबाद के पीतल के लड्डू गोपाल, जलेसर की पीतल की घंटी, वृंदावन के ठाकुरजी की पोशाक खरीदने के लिए खरीदारों की भीड़ लगी रही। 

देश के बारह राज्यों में कर्नाटक, ओडिशा, गुजरात, राजस्थान, दिल्ली, उत्तराखंड, केरल, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, मिजोरम, उत्तर प्रदेश और हैदराबाद के उत्पाद बाजार में दिखाई दे रहे है। 

रावी ईवेंट्स के प्रबंध निर्देशक मनीष अग्रवाल ने बताया कि मेले में पानीपत के हैंडलूम, खुर्जा की पॉटरी, भदोई का कारपेट, सहारनपुर का हस्तशिल्प और फर्नीचर, राजस्थान के नमकीन और अचार, मेडिकल हेल्थ उत्पाद, इंटीरियर डेकोरेशन के लिए फर्नीचर, इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद, कंप्यूटर, गैजेट, गद्दे, डोरमैट कोट आदि की भरमार है। दीपावली के पूजन का सामान, रंगोली, साज-सज्जा और सजावट के समान मुख्य आकर्षण के तौर पर मेले में मिल रहे हैं। 
... और पढ़ें

ध्वस्त होगा आतंकियों का नेटवर्क:  26 देश विरोधी तत्वों को भेजा जाएगा आगरा सेंट्रल जेल, पहली सूची जारी

जम्मू-कश्मीर की विभिन्न जेलों में बंद कुख्यात पत्थरबाज, ओवर ग्राउंड वर्कर और आतंकियों के मददगारों को अब प्रदेश के बाहर की जेलों में शिफ्ट किया जाएगा ताकि घाटी की शांति में खलल डालने की पाकिस्तानी हैंडलरों के नेटवर्क को ध्वस्त किया जा सके। पहली कड़ी में प्रदेश की विभिन्न जेलों में पीएसए के तहत निरुद्ध 26 देश विरोधी तत्वों को आगरा की सेंट्रल जेल में भेजने का फैसला किया गया है। गृह विभाग की ओर से शुक्रवार को इस आशय का आदेश जारी किया गया। 

यह कार्रवाई हाल की टारगेट किलिंग की घटनाओं के मद्देनजर की गई है। प्रशासन की ओर से कुख्यात पत्थरबाजों की सूची तैयार की गई है जिन्हें प्रदेश के बाहर की जेलों उत्तर प्रदेश, हरियाणा व अन्य राज्यों में शिफ्ट किया जाना है।
यह भी पढ़ें- 
ऑपरेशन भाटादूड़ियां: दो बॉक्स में आईईडी बरामद, आतंकियों पर बरसाए जा रहे आग के गोले, देखें तस्वीरें

गृह विभाग की ओर से जारी आदेश के अनुसार श्रीनगर के छह, बडगाम के चार, अनंतनाग-एक, पुलवामा-पांच, शोपियां-दो, बारामुला-तीन, बांदीपोरा के पांच अवांछनीय तत्वों को आगरा जेल भेजने का आदेश जारी हुआ है। सबसे अधिक संख्या में सेंट्रल जेल जम्मू में पीएसए में निरुद्ध 17 पत्थरबाजों व ओजीडब्ल्यू को बाहर की जेलों में भेजा गया है। घाटी में नेटवर्क तोड़ने के लिए जम्मू की जेल में इन्हें डाला गया था ताकि पाकिस्तानी हैंडलर इन तक पहुंच न सकें और चेन को तोड़ा जा सके।   
... और पढ़ें

हादसे में खत्म हुआ पूरा परिवार: फिरोजाबाद के आठ लोगों की मौत से गांव में पसरा मातम, नहीं जले चूल्हे

फिरोजाबाद की सिरसागंज तहसील के गांव नगला अनूप निवासी शिव कुमार के परिवार को एक हादसे ने खत्म कर दिया। गोगामेड़ी के दर्शन कर लौट रहा यह परिवार हरियाणा के बहादुरगढ़ में शुक्रवार तड़के बादली-गुरुग्राम मार्ग पर सड़क हादसे का शिकार हो गया। हादसे में परिवार के आठ लोगों की मौत की खबर सुनकर गांव में मातम पसर गया। हर कोई जानने का प्रयास करता रहा कि आखिर हादसा कैसे और कहां हो गया। ग्रामीणों का कहना है कि हर वर्ष पूरा परिवार बाबा जाहरवीर की जन्मस्थली गोगामेड़ी दर्शन करने जाता था। घर में भी हर सप्ताह बाबा जाहरवीर की पूजा होती थी। कई बार तो बड़े धूमधाम से परिवार ने दर्शन करने के बाद आयोजन भी किया था। लेकिन इस बार यह परिवार लौटकर नहीं आएगा, किसी को नहीं पता था। 
... और पढ़ें

आगरा: फतेहपुर सीकरी के पूर्व विधायक सूरजपाल सिंह का निधन, दिल्ली में चल रहा था इलाज

आगरा के फतेहपुर सीकरी विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक ठाकुर सूरजपाल सिंह का शुक्रवार को दिल्ली में हृदयाघात से निधन हो गया। उन्हें तीन दिन पहले सीने में दर्द की शिकायत के बाद दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां शुक्रवार की शाम को उनका निधन हो गया। इससे शोक की लहर दौड़ गई। वह हाल ही में भाजपा में शामिल हुए थे। 

मूल रूप से किरावली तहसील के गांव अकबरा के रहने वाले ठाकुर सूरजपाल सिंह वर्ष 2007 में बसपा के टिकट पर फतेहपुर सीकरी विधानसभा से चुनाव जीतकर विधायक बने थे। वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव में भी क्षेत्र की जनता ने उन्हें दोबारा से विधायक बनाया। बसपा के बाद कुछ दिनों तक कांग्रेस पार्टी से जुड़े रहे। 

10 अक्तूबर को उन्होंने लखनऊ में भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह के समक्ष पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली थी। उनके भाजपा में शामिल होने के बाद फतेहपुर सीकरी से चुनाव लड़ने के कयास भी शुरू हो गए थे। उनके करीबी साथी रहे पूर्व विधायक डॉ. धर्मपाल सिंह ने बताया कि एक दिन पहले ही उन्हें दिल्ली के अस्पताल में हृदय संबंधी समस्या के कारण भर्ती कराया गया था, जहां से उनके निधन का समाचार मिला है। 
... और पढ़ें

हिरासत में मौत: आगरा में पीड़ित परिवार से मिले चंद्रशेखर, सरकार से सवाल- मुआवजे में दोहरा मापदंड क्यों ?

पुलिस हिरासत में सफाईकर्मी अरुण नरवार की मौत के मामले पर सियासत थम नहीं रही है। पीड़ित परिवार के घर पक्ष-विपक्ष के नेताओं के पहुंचने का सिलसिला जारी है। इसी कड़ी में शुक्रवार को आजाद समाज पार्टी (कांशीराम) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद आगरा पहुंचे। उन्होंने मृतक अरुण के परिवार से मुलाकात की।

चंद्रशेखर आजाद ने शुक्रवार को लोहामंडी में मृतक सफाईकर्मी अरुण नरवार के घर पहुंच कर पीड़ित परिवार को ढांढस बंधाया। उन्होंने कहा कि कानपुर कांड के पीड़ितों को 40 लाख रुपये तो एक दलित की मौत पर महज 10 लाख का मुआवजा दिया गया। उन्होंने सरकार से सवाल पूछा कि मुआवजे में दोहरा मापदंड क्यों ?
 
हिरासत में मौत का मामला: पुलिस ने की थी सफाईकर्मी की पिटाई ? पोस्टमार्टम रिपोर्ट से फंसेगी गर्दन

'दोषी पुलिसकर्मियों को भेजा जाए जेल'
चंद्रशेखर आजाद ने मृतक अरुण की पत्नी और मां से बातचीत के बाद आरोप लगाया कि पुलिस ने महिलाओं को चौकी में ले जाकर अवैध रूप से हिरासत में रखा और उनकी भी पिटाई की थी। इस मामले में दोषी पुलिसकर्मियों को जेल भेजा जाए। 27 अक्तूबर तक दोषियों को जेल नहीं भेजा तो पार्टी वाल्मीकि समाज के साथ चक्का जाम करेगी। 
... और पढ़ें

बांकेबिहारी मंदिर में दीपदान: 1008 दीपों से जगमग हुआ ठाकुरजी का आंगन, 104 वर्ष पुरानी है परंपरा

कार्तिक मास में वृंदावन के ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर में दीपदान की अनोखी परंपरा चली आ रही है। इसी के तहत दीपदान महोत्सव में शामिल होकर श्रद्धालु भी पुण्य लाभ अर्जित कर रहे हैं। मंदिर में प्रतिदिन शाम को तेल के 1008 दीपक जलाए जा रहे हैं। शुक्रवार शाम को भी श्रद्धालुओं ने आस्था के दीपक जलाए, जिससे ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर परिसर दीपों की रोशनी से जगमग हो उठा। मंदिर में बिखरती अद्भुत आभा के बीच श्रद्धालु अपने आराध्य की भक्ति में लीन नजर आए। 

कार्तिक मास के पहले दिन से कार्तिक पूर्णिमा तक ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर परिसर के गेट नंबर दो के पास चबूतरे पर प्रतिदिन शाम को दीपदान किया जाता है। मंदिर के शयन भोग सेवाधिकारी गोस्वामी मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं के साथ दीपदान करा रहे हैं।  
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00