विज्ञापन

उत्तर प्रदेश

विज्ञापन
शनि अमावस्या के दिन सूर्य ग्रहण के समय करें पंच दान, होगा हर समस्या का समाधान - 4 दिसम्बर, 2021
Myjyotish

शनि अमावस्या के दिन सूर्य ग्रहण के समय करें पंच दान, होगा हर समस्या का समाधान - 4 दिसम्बर, 2021

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

ओमिक्रॉन को लेकर यूपी में अलर्ट:  कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर सीएम योगी ने दिए निर्देश, पांच जिलों पर विशेष नजर

दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के सामने आने के बाद देश में अलर्ट जारी किया गया है। उत्तर प्रदेश में प्रदेश सरकार पीएम की अहम बैठक के बाद अलर्ट मोड पर काम कर रही है। प्रदेश में इस नए वैरिएंट को लेकर सभी जिलों में विदेश से आने वालों की पड़ताल के निर्देश दिए गए हैं। कोरोना वायरस के डेल्टा वैरिएंट से भी ज्यादा खतरनाक बताए जाने वाले इस नए वैरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर योगी सरकार सतर्क है। उत्तर प्रदेश सरकार के अलर्ट जारी करने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने एयरपोर्ट पर सख्ती बढ़ा दी है, जिसके चलते यात्रियों की एयरपोर्ट पर निःशुल्क आरटी-पीसीआर की जांच की जाएगी।

स्टेट सर्विलांस ऑफिसर विकास इंदु अग्रवाल ने बताया कि प्रदेश के 75 जिलों के डीएसओ, सीएमओ, डीआईओ और एक्स्पर्ट संग एक अहम बैठक की गई है। प्रदेश सरकार की ओर से इस बैठक में अधिकारियों को दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार ने डेली मॉनीटरिंग को बढ़ाने के आदेश दिए हैं। विदेश से लौटे यात्रियों में 14 दिन के भीतर लक्षण दिखने पर उनकी जांच की जाएगी। इसके साथ ही पहले से सक्रिय सर्विलांस टीमें और भी तेजी से काम करेंगी। कोरोना की पहली और दूसरी लहर के बाद इस नए वैरिएंट का सामना करने के लिए सरकार पूरी तौर पर तैयार है। इसके साथ ही कोरोना प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन कराने के आदेश भी जारी किए गए हैं।

एयरपोर्ट पर जांच, बढ़ेगा स्क्रीनिंग का दायरा
24 करोड़ की आबादी वाले प्रदेश में नए वैरिएंट को लेकर हर एक चरण पर प्रदेश सरकार सर्तकता बरत रही है। एयरपोर्ट पर अब जांच और स्क्रीनिंग का दायरा बढ़ाया जाएगा। विदेश से आने वाले यात्रियों की जांच और स्क्रीनिंग अब और तेजी से किए जाने के निर्देश प्रदेश सरकार ने जारी किए हैं। इसके साथ ही अब विदेश से लौटे यात्री 15 दिन स्वास्थ्य विभाग के संपर्क में रहेंगे।

... और पढ़ें

देवरिया में बोले सीएम योगी: एक माह के अंदर कराई जाएगी यूपीटीईटी की परीक्षा, आरोपियों के घर पर चलेगा बुलडोजर

देवरिया जिले के भाटपाररानी क्षेत्र के रघुराज प्रताप सिंह इंटरमीडिएट कॉलेज में मूर्ति लोकार्पण एवं विकास योजनाओं के शिलान्यास के दौरान रविवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि टीईटी का पर्चा लीक कराने वालों के घर पर बुलडोजर चलेगा। चाहे वह कोई भी क्यों न हो। सभी लोगों पर गैंगस्टर की कार्रवाई होगी। अब तक 23 लोग पकड़े गए हैं। जो फरार हैं उन्हें भी गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी की जा रही है।

उन्होंने कहा कि टीईटी की परीक्षा एक माह के भीतर कराई जाएगी। अभ्यर्थियों को कोई परेशानी न हो इसके लिए सभी जिला प्रशासन को निर्देश जारी कर दिया गया है। अभ्यर्थी अपना एडमिट कार्ड दिखा कर रोडवेज की बसों में यात्रा कर सकते हैं। रोडवेज को इसका निर्देश दे दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने माफिया का जिक्र करते हुए विपक्षी दलों पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों में ये सरपस्त हुआ करते थे। आज इनकी संपत्तियों पर बुलडोजर चल रहा है तो कुछ लोगों को बुरा लग रहा है। उन्होंने कहा कि ये और इनके सरपस्त भस्मासुर हैं। आप इन्हें प्रश्रय न दें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि देवरिया और कुशीनगर चीनी का कटोरा हुआ करता था। सपा-बसपा की सरकार ने 21 चीनी मिलों को बेच दिया। मैंने जिला प्रशासन से जमीन उपलब्ध कराने को कहा है। जमीन मिलते ही देवरिया में एक चीनी मिल लगेगी।



उन्होंने कहा कि सपा-बसपा की सरकार में आए दिन दंगे होते थे। सपा के पांच वर्ष के शासन में अकेले देवरिया में तीन दंगे हुए। दुर्गा पूजा में लार में दंगा हो जाता था। त्योहार पर भाटपाररानी में तनाव हो जाता, भटनी में घर फूंक दिए जाते थे। एक जगह तो दंगाई थानों के असलहे ही लूट ले गए थे। तब सरकार पीड़ितों की जगह दंगाइयों के साथ खड़ी होती थी। पर अब ऐसा नहीं होता। पिछले साढ़े चार साल में कहीं दंगा नहीं हुआ है।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने केंद्र और प्रदेश सरकार की योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि डबल इंजन की सरकार आज सबका विकास कर रही है। उन्होंने कोरोना काल में किए गए कार्यों को गिनाते हुए कहा कि अब तक 15.84 करोड़ लोगों को टीका लगाया जा चुका है। यह सभी के सहयोग से ही संभव हो सका। उन्होंने सभी से टीका लगवाने की अपील की। अंत में भाटपाररानी में 2022 में कमल खिलाने की अपील करते हुए कहा कि इस बार 2017 की चूक ब्याज समेत चुकाएं। किसी के झासे में न आएं।
... और पढ़ें

लखनऊ: एयरपोर्ट पर कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर आपात बैठक, हर यात्री की आरटीपीसीआर, थर्मल स्कैनिंग के आदेश

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर अमौसी एयरपोर्ट पर रविवार को आपात बैठक बुलाई गई, जिसमें डीएम अभिषेक प्रकाश ने विदेशों से आने वाले यात्रियों की स्क्रीनिंग, कोविड टेस्ट व सतर्कता बरतने के निर्देश दिए।

डीएम ने कहा कि यात्रियों का आरटीपीसीआर टेस्ट अनिवार्य रूप से किया जाए। इसके अलावा लक्षण दिखने पर घरेलू यात्रियों की भी आरटीपीसीआर व थर्मल स्कैनिंग जरूरी होगी। इसके लिए घरेलू टर्मिनल पर थर्मल स्कैनिंग के लिए चार काउंटर बनाने और दो शिफ्टों में कर्मचारियों की ड्यूटी लगाने के निर्देश दिए। थर्मल स्कैनिंग के बाद यात्रियों की रैंडम जांच भी होगी।

उन्होंने कहा कि घरेलू व अंतर्राष्ट्रीय टर्मिनल, दोनों पर यात्रियों की मुफ्त आरटीपीसीआर जांच की जाए। इसके अलावा डीएम ने यात्रियों से कोरोना से बचाव के लिए आरटीपीसीआर जांच और थर्मल स्कैनिंग में सहयोग की अपील भी की है। साथ ही अपना नाम, पता व मोबाइल नंबर सही-सही देने के लिए भी कहा है।
... और पढ़ें

टीईटी परीक्षा: 26 दिसंबर या इससे पहले हो सकता है एग्जाम, पेपर लीक होने की वजह से रद्द हुई थी परीक्षा

टीईटी पेपर लीक होने के बाद रद्द की गई परीक्षा को दुबारा कराने के लिए तारीख का एलान कर दिया गया है। अब टीईटी परीक्षा 26 दिसंबर या इससे पहले भी हो सकती है। बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री सतीश द्विवेदी ने कहा कि 26 दिसंबर को टीईटी परीक्षा कराने का प्रस्ताव मिला है। अधिकारियों को इस तिथि को कोई अन्य परीक्षा या कार्यक्रम प्रस्तावित नहीं हैं, इसका परीक्षण करने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि यदि 26 दिसंबर को कोई अन्य परीक्षा प्रस्तावित है तो इससे पहले परीक्षा कराई जाएगी। परीक्षा की तिथि शाम तक घोषित होगी। सूबे के मुखिया ने पेपर लीक होने पर इसमें संलिप्त लोगों पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी थी। साथ ही एक महीने के अंदर परीक्षा कराने का एलान भी किया था।
यह भी पढ़ें- 
UPTET Paper Leak: सचिवालय के संविदाकर्मियों से जुड़े पेपर लीक के तार, व्हाट्सएप ग्रुप खोलेगा सभी राज

पेपर लीक के तार सचिवालय से जुड़े हैं। सचिवालय में संविदा पर तैनात कर्मचारी इस गिरोह में सक्रिय सदस्य है। इसके अलावा गिरफ्तार एक सदस्य के पास से सचिवालय के खाद्य एवं रसद विभाग का पहचान पत्र, पास व अन्य कागजात मिले। इस बात की पुष्टि एसटीएफ के अधिकारियों ने की है। एसटीएफ ने रविवार को टीईटी परीक्षा में पेपर लीक कराने वाले गिरोह के कई सदस्यों को दबोचा है। इसमें एसटीएफ के डिप्टी एसपी धर्मेश शाही की टीम ने चार लोगों को दबोचा है।

इसमें झांसी का अनुराग देश, अंबेडकरनगर का फौजदार वर्मा उर्फ विकास, अयोध्या कपासी का कौशलेंद्र प्रताप राय और झांसी का चंदू वर्मा शामिल है। अयोध्या के कौशलेंद्र राय  के पास से टीम ने कई अहम दस्तावेज बरामद किये है। इसमें सचिवालय का पास, खाद्य एवं रसद विभाग का पहचान पत्र और अन्य जरूरी दस्तावेज शामिल हैं।
... और पढ़ें
टीईटी परीक्षा टीईटी परीक्षा

सत्ता की राह : तुष्टीकरण पर वार से यूपी में भगवा ब्रिगेड की प्रचंड जीत, मोदी पर विश्वास, आया योगी राज

सोलहवीं विधानसभा के चुनाव में प्रचंड बहुमत के साथ भगवा दल सत्ता में आया। आखिर ऐसा क्या था जो 2017 में  भाजपा अचानक छलांग लगाते हुए 300 पार पहुंच गई? गठबंधन के उस समय के साथी अपना दल और ओमप्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को मिला लें तो 325 सीटें मिलीं। समाजवादी पार्टी 47 के साथ वहां पहुंच गई, जहां 2012 में भाजपा थी। बसपा तो 19 पर ही सिमट गई और कांग्रेस दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सकी। 

वैसे तो यह कहानी काफी विस्तार लेती है, जिसमें भाजपा के भीतर से लेकर बाहर तक और दूसरी पार्टियों तक के राजनीतिक ऑपरेशन के प्रसंग हैं। पहला तो यही, उन नेताओं को कठोरता के साथ खिलाड़ी के बजाय दर्शक की भूमिका में बैठाया गया, जो हॉकी के पुराने खिलाड़ियों की तरह सिर्फ घास के मैदान पर खेलने के आदी थे। एस्ट्रोटर्फ पर नहीं...। 

इसके साथ ही भाजपा ने चुनाव में कमाल किया तो उसकी वजहें रहीं- राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के चिंतन से 2013 में गुजरात से दिल्ली की राजनीति में बतौर प्रधानमंत्री उम्मीदवार लाकर भाजपा की केंद्रीय राजनीति का चेहरा बनाए गए नरेंद्र मोदी पर लोगों का विश्वास। आशावाद। राष्ट्रीयता। विकास और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद। मोदी के भरोसेमंद साथी और उनके साथ कदम पर कदम मिलाकर कठोर प्रशासक की तरह काम करने वाले अमित शाह की नई सोशल इंजीनियरिंग। रणनीतिक तरीके से बूथ प्रबंधन और गैर यादव व गैर जाटव को एकजुट करना। 

यह भरोसा दिलाना कि भाजपा सिर्फ ब्राह्मणों-वैश्यों की पार्टी नहीं है। चुनाव अभियान में योगी आदित्यनाथ जैसे आक्रामक हिंदुत्ववादी चेहरे को प्रचार के लिए पश्चिम से उतारकर अखिलेश सरकार के तुष्टीकरण नीति पर पूरी ताकत से हमला कराकर हिंदुत्व का एजेंडा सेट करना। कल्याण की तरह हिंदुत्व की धारा की पहचान वाले पिछड़ी जाति के नेता केशव प्रसाद मौर्य को प्रदेश अध्यक्ष बनाकर अगड़ों के साथ पिछड़ों को जोड़ना। केंद्र सरकार के दलित एजेंडे, डॉ. भीमराव आंबेडकर के साथ संत रविदास सहित अन्य महापुरुषों के नाम, स्थान और उनके सम्मान पर काम। अनुसूचित जाति के कल्याण के लिए किए गए कार्य। 

2014 से 2017 पर नजर
भाजपा को 2017 में उत्तर प्रदेश में मिली जीत पर विस्तार से बात करने से पहले प्रदेश की 2013 से 2017 के बीच के राजनीतिक परिदृश्य को समझना जरूरी है। इसके बिना प्रदेश में भाजपा को अपने बल पर पहली बार मिली इतनी बड़ी जीत का अर्थ तलाशना एवं समझना मुश्किल है। याद दिला दें कि 2013 के अगस्त-सितंबर में मुजफ्फरनगर में दंगे हुए। कैराना से पलायन भी बड़ा मुद्दा बना हुआ था। ऊपर से मुजफ्फरनगर से लेकर कैराना तक के मामलों पर तत्कालीन प्रदेश सरकार जिस तरह काम कर रही थी, आतंक के आरोपियों से मुकदमे वापस लेने के एलान, सरकारी खर्च पर कब्रिस्तानों की बाउंड्री का निर्माण, मुस्लिम बालिकाओं को तीस हजार रुपये देने के एलान से तुष्टीकरण का संदेश जा रहा था। मुजफ्फरनगर में दंगा फैलाने के मामले में नामजद मदरसा संचालक मौलाना को विशेष विमान से बुलाना जैसे काम हो रहे थे। इस सबने प्रदेश की राजनीति में हिंदुत्व को अपने आप मुद्दा बना दिया था।

मोदी का सशक्त चेहरा विकास का एजेंडा
नरेंद्र मोदी की भाजपा के प्रधानमंत्री उम्मीदवार के तौर पर 20 अक्तूबर 2013 को कानपुर में रैली थी। लोकसभा चुनाव 2014 के मद्देनजर प्रदेश में मोदी की यह पहली विजय शंखनाद रैली थी। इसी रैली से उन्होंने हिंदुत्व के साथ राष्ट्रीयता व विकास का एजेंडा सेट करना शुरू कर दिया था। चूंकि यह रैली लोकसभा चुनाव 2014 को लेकर थी, तो जाहिर है कि उनके निशाने पर पहले नंबर पर कांग्रेस ही थी। पर, इन रैलियों की शृंखला में उन्होंने अलग-अलग क्षेत्रों में बसपा और सपा को भी कांग्रेस के साथ निशाना बनाया। गुजरात के कामों, वहां की कानून-व्यवस्था के सहारे तत्कालीन केंद्र की कांग्रेस नेतृत्व वाली संप्रग सरकार को घेरते हुए प्रदेश की बदहाली लोगों को समझाई। प्रदेश की कानून-व्यवस्था, हिंदुओं के साथ किए गए दोयम दर्जे के व्यवहार की घटनाओं को मुद्दा बनाया। तुष्टीकरण नीति पर हमला बोला। इन सबसे लग गया था कि मोदी सिर्फ 2014 का नहीं, बल्कि उससे आगे 2017 का भी एजेंडा सेट कर रहे हैं, जिसमें हिंदुत्व के साथ राष्ट्रीयता और विकास शामिल होगा। भाजपा के वरिष्ठ नेता राजेंद्र तिवारी ने उस समय चुटकी लेते हुए कहा भी था- मोदी का हिंदुत्ववादी चेहरा हमने नहीं, खुद विपक्ष ने बनाया है। इससे मोदी का नेतृत्व होने का मतलब ही भाजपा का राष्ट्रीयता के साथ विकास व हिंदुत्व के एजेंडे पर काम करने का संदेश है।
 
... और पढ़ें

लखनऊ : यूपी फिल्म शूटिंग के लिए देश में सबसे अनुकूल राज्य, मिला पुरस्कार

गोवा में आयोजित भारत के 52वें अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह-2021 में उत्तर प्रदेश को फिल्म शूटिंग के लिए देश के सबसे अनुकूल राज्य का पुरस्कार प्रदान किया गया है। 

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर व गोवा के मुख्यमंत्री डॉ. प्रमोद सावंत ने समारोह के समापन अवसर पर रविवार को यूपी को यह पुरस्कार प्रदान किया। उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने यह पुरस्कार प्राप्त किया।

इस अवसर पर सहगल ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दिशा-निर्देशन में राज्य सरकार उत्तर प्रदेश में फिल्म निर्माण से जुड़ी विभिन्न गतिविधियों को निरंतर प्रोत्साहित कर रही है। हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट, जेवर का शिलान्यास किया गया है। 

प्रदेश सरकार इस परियोजना के निकट 1,000 एकड़ क्षेत्रफल पर फिल्म सिटी का विकास कर रही है। इस फिल्म सिटी में प्री-प्रोडक्शन, पोस्ट-प्रोडक्शन, शूटिंग सहित फिल्म निर्माण से संबंधित सभी आवश्यक सुविधाओं को एक छत के नीचे देने का प्रयास किया गया है। 

अपर मुख्य सचिव ने कहा कि फिल्म सिटी में 10,000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश अनुमानित है। फिल्म सिटी में भूमि के लिए प्रदेश सरकार कोई धनराशि नहीं लेगी, बल्कि जमीन को लाइसेंस पर देने की व्यवस्था की जाएगी। 
... और पढ़ें

UP Election 2022: आज हाथरस में सत्ता का संग्राम, आम लोग उठाएंगे चुनावी मुद्दे, नेताओं से होंगे तीखे सवाल

पिछले एक साल से उत्तर प्रदेश का हाथरस जिला पूरे देश में चर्चा का केंद्र रहा है। यहां सितंबर 2020 में एक दलित युवती के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया था। घटना ने काफी तूल पकड़ा। देखते ही देखते देश की राजनीति में ये मुद्दा हावी हो गया। आज भी विपक्षी दलों के नेता हाथरस कांड के जरिए ही योगी सरकार पर निशाना साधते हैं। ये तो हाथरस की एक बुरी पहचान है। इससे हटकर यहां की एक धार्मिक पहचान भी है। यहां जैन धर्म के अनुयायियों के आस्था का प्रतीक तीर्थधाम मंगलायतन है। मंगलायतन में दर्शन के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु आते हैं। 

राजनीति के लिहाज से भी अब हाथरस काफी चर्चित है। जिले में तीन विधानसभा क्षेत्र हैं। इनमें दो पर भारतीय जनता पार्टी और एक पर बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी रामवीर उपाध्याय ने 2017 चुनाव में जीत हासिल की थी। रामवीर अभी बसपा से निलंबित चल रहे हैं। 

अब एक बार फिर से यहां विधानसभा चुनाव को लेकर तैयारियां तेज हो गई हैं। ऐसे में इस बार आम लोगों के लिए चुनाव में क्या मुद्दे होंगे? युवा, महिलाएं और यहां की आम जनता मौजूदा सरकार के बारे में क्या सोचती है? क्या इन साढ़े चार साल में जिले का विकास हो पाया? राजनीतिक दलों के नेताओं का क्या मानना है? वह किन मुद्दों को लेकर जनता के बीच जाएंगे? ऐसे तमाम सवालों का जवाब जानने के लिए 'अमर उजाला' का चुनावी रथ 'सत्ता का संग्राम' सोमवार को हाथरस में होगा। 

आप भी 'अमर उजाला' के इस मंच से जुड़ सकते हैं। इसके जरिए आप अपने क्षेत्र, शहर, राज्य और देश के हर मुद्दों को उठा पाएंगे। आप बता पाएंगे कि आने वाले चुनाव में नेताओं और राजनीतिक दलों से आपको क्या उम्मीदें हैं? किन मसलों को लेकर आप वोट करेंगे और नेताओं से आप क्या चाहते हैं?

कब और कहां होंगे कार्यक्रम?

1-सुबह 8 बजे
चाय पर चर्चा
स्थान : ज्ञान टी स्टॉल, आगरा रोड

2- दोपहर 12:00 बजे
आधी आबादी से चर्चा
स्थान : डीआर बी इंटर कॉलेज आगरा रोड हाथरस

3- शाम 4 बजे
राजनीतिक दलों से चर्चा
स्थान : नगर पालिका पार्क, हाथरस

अब तक इन जिलों में हुआ कार्यक्रम
अब तक पश्चिमी उत्तर प्रदेश और ब्रज के कई जिलों में 'अमर उजाला' का यह कार्यक्रम हो चुका है। गाजियाबाद से शुरू हुआ 'सत्ता का संग्राम' मुरादाबाद, रामपुर, अमरोहा, बरेली, बदायूं, पीलीभीत, शाहजहांपुर, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, हरदोई, फर्रुखाबाद, कन्नौज, इटावा, मैनपुरी, एटा, फिरोजाबाद, आगरा होते हुए मथुरा पहुंचा। अब अगला पड़ाव हाथरस है।       

'सत्ता का संग्राम' में क्या होगा खास?
चुनावी रथ 'सत्ता का संग्राम' के तहत अमर उजाला हर वर्ग के मतदाताओं तक पहुंचेगा। चाय पर चर्चा के साथ-साथ महिलाओं-युवाओं से संवाद होगा और राजनीतिक हस्तियों से सीधे सवाल पूछे जाएंगे। अमर उजाला आपको एक मंच दे रहा है, जहां आप बातों को रख सकेंगे, ताकि जब राजनीतिक हस्तियां चुनावी रैलियां करने आएं तो उन्हें आपसे जुड़े जमीनी मुद्दे भी याद रहें।

विशेष प्रोत्साहन की व्यवस्था
'सत्ता का संग्राम' से जुड़े कार्यक्रमों में जमीनी स्तर पर हिस्सा लेने वाले दर्शकों और श्रोताओं के लिए विशेष प्रोत्साहन की भी व्यवस्था की गई है।

इस विशेष कवरेज को आप कहां देख सकेंगे?
  • अमर उजाला अखबार और amarujala.com पर आपको कार्यक्रम स्थल की जानकारी मिलेगी।
  • 'सत्ता का संग्राम' से जुड़ा व्यापक जमीनी कवरेज आप अमर उजाला अखबार में पढ़ सकेंगे।
  • amarujala.com पर आप कार्यक्रमों को लाइव देख सकेंगे।
  • सभी कार्यक्रम अमर उजाला डिजिटल के फेसबुक पेज और यू-ट्यूब चैनल पर भी देखे जा सकेंगे।
  • इन सभी कार्यक्रमों के जरिए दर्ज होने वाली जनता की आवाज विशेष रूप से अमर उजाला के पॉडकास्ट "आवाज" पर भी उपलब्ध रहेगी।
... और पढ़ें

गोरखपुर: जनता दरबार में सीएम योगी ने सुनी फरियाद, बोले- पुलिस देगी साथ, नहीं होगा अन्याय

हाथरस, उत्तर प्रदेश चुनाव 2022

प्रयागराज : सड़क हादसे में पिता, दो बेटों और नाती समेत पांच की मौत, घर में मचा कोहराम

नवाबगंज में बीती रात सड़क दुर्घटना में एक ही परिवार के चार सदस्यों के साथ पांच लोगों की मौत हो गई। सूचना पाकर मौके पर पुलिस पहुंच गई। पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। घटना की जानकारी परिवार को लोगों को दी गई तो कोहराम मच गया। 

पुलिस ने बताया कि एक तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक में टक्कर मार दी, जिसमें नवाबगंज के बुदौना गांव निवासी राम सरन पाल (60) उनके पुत्रों में लल्लू पाल (35), समय लाल (35) एवं नाती अर्जुन पाल (11) के साथ रामचंदर पाल उर्फ ऊंटहरा (55) की सड़क हादसे में मौत हो गई। घटना नवाबगंज इलाके के श्रृंगवेरपुर हाईवे मार्ग के समीप रविवार रात लगभग 12 बजे हुई। घटना के बाद चालक ट्रक लेकर भागने में सफल रहा।

पुलिस ने शवों को पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। घटना के बाद गांव में मातम सा छाया हुआ है। बताया जाता है कि सभी लोग हथिगवां के रिश्तेदार के यहां से दावत में शिरकत करने के बाद एक ही बाइक पर सवार होकर घर के लिए निकले थे।
... और पढ़ें

यूपीटेट पर्चा लीक : बीच परीक्षा उठाया, कॉपियां छीनीं, हंगामा, सरकार पर तोहमत

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटेट) का पेपर लीक होने की सूचना के बाद परीक्षा निरस्त होने पर कई जगह अभ्यर्थियों ने हंगामा किया। पेपर पहली पाली शुरू होने के कुछ ही देर बाद स्थगित कर दिया गया। इसकी सूचना जैसे-जैसे परीक्षा केंद्रों को मिली, कहीं पर आधा घंटे बाद, कहीं 45 मिनट तो कहीं एक घंटे बाद परीक्षार्थियों को बीच परीक्षा उठाया गया और ओएमआर शीट आदि ले ली गईं। इससे नाराज परीक्षार्थियों ने कई केंद्रों पर हंगामा किया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए लौटे।

राजधानी के 99 केंद्रों पर परीक्षा आयोजित हो रही थी। पहली पाली की परीक्षा शुरू होने के थोड़ी देर बाद ही पेपर लीक होने की जानकारी मिली। जैसे ही केंद्र व्यवस्थापकों को परीक्षा निरस्त करने के निर्देश मिले, उन्होंने दरवाजे बंद कराकर ओएमआर शीट आदि जमा करवा लीं, ताकि इसे लेकर कोई जा न सके। कुछ केंद्र के परीक्षार्थियों का आरोप है कि उनसे कॉपियां छींन ली गईं।

पेपर लीक होने से परीक्षार्थियों में काफी नाराजगी व गुस्सा था। नाराज परीक्षार्थियों ने राजकीय इंटर कॉलेज हुसैनाबाद, अग्रसेन इंटर कॉलेज चौक, राजकीय बालिका इंटर कॉलेज आदि केंद्रों के बाहर हंगामा व नाराजगी व्यक्त की। परीक्षार्थियों की नाराजगी को देखते हुए सभी केंद्रों के बाहर पुलिस प्रशासन सतर्क था और परीक्षार्थियों को समझा-बुझाकर वापस घर भेजा।

झांसी में भोपाल, ग्वालियर समेत दूरदराज के छात्र-छात्राएं परीक्षा देने के लिए आए थे। जैसे ही परीक्षा निरस्त होने की जानकारी परीक्षार्थियों को दी गई तो वे नाराज होने लगे। कई छात्र ओएमआर शीट तक देने को तैयार नहीं हुए तो कक्ष निरीक्षकों को छीननी पड़ी। परीक्षा निरस्त होने की जानकारी होने पर कुछ केंद्रों में भगदड़ सी मच गई। घर लौटने के लिए परीक्षार्थियों की भीड़ बस स्टैंड और रेलवे स्टेशन पर पहुंची। इससे वहां भी अफरा-तफरी का माहौल हो गया। बाहर से आए परीक्षार्थियों ने लौटने के लिए पहले से ट्रेन का रिजर्वेशन करा रखा था।

ऐसे में उन्हें 10-10 घंटे स्टेशन पर ट्रेन का इंतजार करना पड़ा। वहीं, वाराणसी में अभ्यर्थियों ने जमकर हंगामा मचाया। शहरी और ग्रामीण इलाकों में केंद्रों के पास रास्ता जाम कर परीक्षा व्यवस्था में लापरवाही का आरोप लगाकर नारेबाजी की। अगले महीने इसी प्रवेश पत्र पर परीक्षा कराए जाने का आश्वासन दिए जाने पर अभ्यर्थी माने।

फूट-फूटकर रोये परीक्षार्थी, मेहनत-पैसा दोनों हो गया बर्बाद
परीक्षा निरस्त होने पर कई केंद्रों के परीक्षार्थियों फूट-फूटकर रोने लगे। परीक्षार्थियों ने कहा कि 2019 की भर्ती की परीक्षा अब हुई है। लगभग दो साल से परीक्षा का इंतजार कर रहे थे। दिन-रात परीक्षा की तैयारी में मेहनत कर रहे थे। कइयों ने तो हजारों रुपये कोचिंग की फीस दे दी। पेपर लीक होने से मेहनत, पैसा दोनों बर्बाद हो गया।
... और पढ़ें

कुशीनगर: सीएम योगी नवविवाहित जोड़ों को आशीर्वाद देने आएंगे, 2500 जोड़े थामेंगे एक-दूजे का हाथ

कुशीनगर जिला मुख्यालय में स्थित बुद्ध पार्क आज 2,503 जोड़ों के सामूहिक विवाह का गवाह बनेगा। उत्तर प्रदेश भवन एवं सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की तरफ से कन्या विवाह सहायता योजना के तहत इस सामूहिक विवाह कार्यक्रम का आयोजन हो रहा है। इसमें कुशीनगर, देवरिया, गोरखपुर और महाराजगंज जिलों से चयनित जोड़ों का विवाह संपन्न होगा। इन्हें स्वयं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आशीर्वाद देने के लिए आ रहे हैं।

श्रम प्रवर्तन अधिकारी मनीष कुमार सिंह ने बताया कि इस विवाह में पंजीकृत श्रमिकों की पुत्रियों का विवाह कराया जा रहा है। इसमें कुशीनगर के 609 हिंदू और 45 मुस्लिम सहित 654 जोड़े, गोरखपुर के 779 हिंदू व 38 मुस्लिम सहित 817 जोड़ों का विवाह संपन्न होगा। महाराजगंज जिले 609 हिंदू एवं 25 मुस्लिम समेत 634 जोड़े और देवरिया के 368 हिंदू व 30 मुस्लिम सहित 398 जोड़े गृहस्थी की डोर में बंधेंगे।

इस तरह मंडल के चारो जनपदों को मिलाकर 2,365 हिंदू व 138 मुस्लिम सहित कुल 2,503 जोड़ों का विवाह एक साथ संपन्न होगा। इसकी तैयारी पूरी कर ली गई है। श्रम प्रवर्तन अधिकारी ने बताया कि इनकी पोषाक पर दो करोड़ 50 लाख 30 हजार रुपये और योजना के मद में 16 करोड़ 26 लाख 95 हजार रुपये खर्च किए जा रहे हैं।
... और पढ़ें

फाफामऊ चौहरा हत्याकांड : ‘गौरी’ के नाम से सेव किया था नंबर, खुद को बताता था प्रधान

फाफामऊ कांड में गिरफ्तार पवन सरोज ने अपने मोबाइल में मृतक किशोरी का नंबर किसी अन्य नाम से सेव कर रखा था। किशोरी के नंबर के आगे उसने गौरी नाम लिख रखा था। अफसरों ने बताया कि उसके मोबाइल से किशोरी को भेजे गए मैसेज देखने पर पता चला कि पिछले दो महीने से वह लगातार उसे परेशान कर रहा था। कई बार किशोरी ने मैसेज के जरिए उसे मना भी किया। एक बार धमकाया भी लेकिन उस पर कोई असर नहीं हुआ।

पुलिस का कहना है कि आरोपी पवन शटरिंग का काम करता है और वह उस भट्ठे पर भी जाता था जो मृतकों के मकान के ठीक पीछे स्थित है। खास बात यह है कि उसकी ओर से भेजे गए मैसेज किशोरी के  मोबाइल से डिलीट मिले लेकिन उसने अपने मोबाइल से इन मैसेजेज को डिलीट नहीं किया था। इसे देखने से ही पता चला कि किशोरी को भेजे गए मैसेजेज में वह खुद को प्रधान बताता था। साथ ही रोजाना उसे कई-कई मैसेज भेजता था। इसकेलिए कई बार मैसेज के जरिए ही किशोरी अपना विरोध भी जता चुकी थी। लेकिन वह नहीं माना और लगातार मैसेज भेजता रहा।
... और पढ़ें

यूपी: औरैया में भीषण सड़क हादसा, डंपर में घुसी कार, तीन मासूमों की मौत, मधुबनी से जा रहे थे गुरुग्राम

औरैया के थाना ऐरवाकटरा क्षेत्र से गुजरने वाले आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर एक कार आगे चल रहे डंपर में जा घुसी। चालक सहित छह लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे। जिन्हें यूपीडा की एंबुलेंस ने मेडिकल यूनिवर्सिटी सैफई में भर्ती कराया गया।

उपचार के दौरान तीन मासूम बच्चों की मौत हो गई। वहीं दो का उपचार चल रहा है। बिहार के जिला मधुबनी के थाना लखनौर के पाली गांव निवासी संजय (33) पत्नी पुनिया देवी (30) तथा बालक प्रिंस 13 वर्ष, बच्ची साक्षी 7 वर्ष और 5 माह के पुत्र कार्तिक के साथ निजी कार से गुरुग्राम जा रहे थे।

वह गुरुग्राम में प्राइवेट नौकरी करते हैं। कार सीताराम (35) निवासी जिला मधुबनी चला रहा था। शनिवार दोपहर करीब दो बजे एरवाकटरा थानाक्षेत्र के अंतर्गत आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे के चैनल नंबर 135 पर कार डंपर से जा घुसी। जिसमें कार के परखचे उड़ गए।

चीख-पुकार पर स्थानीय लोगों ने कार में फंसे सभी लोगों को बाहर निकाला। यूपीडा की एंबुलेंस से मेडिकल यूनिवर्सिटी सैफई में भर्ती कराया गया। जहां पर तीनों बच्चों प्रिंस, कार्तिक और साक्षी की मौत हो गई। संजय और पुनिया का इमरजेंसी ट्रामा सेंटर में आईसीयू में इलाज चल रहा है।

जहां पर उनकी स्थिति गंभीर बताई जा रही है। वहीं चालक को मामूली चोटें आई थीं जिसकी वजह से उसे छुट्टी दे दी गई। घटना की सूचना पर उनके परिवारीजन भी रविवार को सैफई पहुंचे हैं।
... और पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00